Thursday, March 17, 2011

साहित्यिक पत्रिका ‘कथाबिंब’ का एक सामान्य अंक

पत्रिका: कथाबिंब, अंक: 112 वर्ष2011, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: मंजुश्री, पृष्ठ: 52, रेखा चित्र/छायांकन: जानकारी उपलब्ध नहीं, आवरण चित्र: नमिता सक्सेना, मूल्य: 15रू(वार्षिक 60रू.), ई मेल, वेबसाईट: , फोन/मो. 09819162648, सम्पर्क: ए-14, बसेरा आफ दिन क्वारी रोड़, देवनार मुम्बई 400088
कथाप्रधान साहित्यिक पत्रिका कथाबिंब के समीक्षित अंक में सामाजिक सरोकारों से युक्त कहानियों का प्रकाशन किया गया है। प्रकाशित प्रमुख कहानियों में नील पाखी(अनुज प्रभात), एक परिचय अंतहीन(सतीश दुबे), कर्जा-वसूली(रमेश यादव), जन्म दिन मुबारक(इला प्रसाद) एवं पांचवीं कक्षा(निरूपमा राय) प्रमुख हैं। लघुकथाओं में पूरन सिंह, मंगला रामचंद्रन, ज्ञानदेव मुकेश तथा किशनलाल शर्मा की लघुकथाएं प्रभावित करती है। गोपालदास नीरज के सिवाय अन्य कवियों की कविताएं स्तरहीन व अप्रभावी हैं। इस तरह की कविताओं के प्रकाशन का कोई औचित्य नहीं है। पत्रिका के सतंभ की सामग्री भी सामान्य ही है। कंल मिलाकर कथाबिंब का यह अंक एक साधारण अंक है जो अपनी कोई छाप नहीं छोड़ सका है।

1 comment: