Friday, May 28, 2010

साहित्य का ‘पुष्पक’

पत्रिका: पुष्पक, अंक: 03, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: डाॅ. अहिल्या मिश्र, पृष्ठ: 112, मूल्य:75रू.(वार्षिक 250रू.), ई मेल: , वेबसाईट/ब्लाॅग: उपलब्ध नहीं, फोन/मो. 040.23703708, सम्पर्क: 93सी, राजसदन, वेंगलराव नगर, हैदराबाद 500.038 आंध्रप्रदेश
पत्रिका का यह अंक देशभर के प्रतिभावान रचनाकारांे की रचनाओं से स्मृद्ध है। अंक में शांति अग्रवाल, डाॅ. गुणमाला सोमाणी, पवित्रा अग्रवाल, कृष्ण कुमार यादव, की कहानियां प्रकाशित की गई हैं। लक्ष्मीनारायण अग्रवाल, डाॅ .अंजना अनिल, श्रीवत्स जिज्ञासु, विनोदिनी गोयनका, सुरेन्द्र मिश्र, पंकज शर्मा एवं संजय चतुर्वेदी की लघुकथाएं प्रभावित करती हैं। कविताओं में नयापन है उनमें प्रमुख हैं - डाॅ. रमा चतुर्वेदी, डाॅ. अहिल्या मिश्र, अमरनाथ मिश्र, यासमीन सुल्ताना नकवी, सरिता सुराणा जैन, मीना मूथा, ज्ञानेन्द्र साज, डाॅ. परमलाल गुप्त, करण सिंह ऊठवाल, हीरालाल प्रसाद जनकवि तथा कृपाशंकर शर्मा अचूक शामिल हैं। इसके अतिरिक्त डाॅ .अहिल्या मिश्र, डाॅ. सुनील सूद, दिलीप भाटिया, प्रो. एस. शेषारत्नम, डाॅ. गणेशदत्त सारस्वत, डाॅ. गोरखनाथ तिवारी, अर्पणा दीप्ति, संपत देवी मुरारका एवं डाॅ.सीता मिश्रा के लेख प्रभावशाली व पठनीय हैं। अन्य रचनाएं भी अपनी पाठक पर अपनी छाप छोड़ती है। दक्षिण भारत में हिंदी पर इतना अधिक उल्लेखनीय व शोधपरक कार्य प्रशंसनीय हैं।

3 comments:

  1. महत्वपूर्ण और सुंदर जानकारी।

    ReplyDelete
  2. इसे डाक से कैसे प्राप्त किया जा सकता है विदेश में.

    ReplyDelete