Tuesday, October 13, 2009

फणीश्वरनाथ रेणु और मैला आंचल--संदर्भ ‘प्रगति वार्ता’

पत्रिका-प्रगति वार्ता, अंक-जुलाई.09, स्वरूप-मासिक, प्रधान संपादक-डाॅ. रामजन्म मिश्र, संपादक-सच्चिदानंद, पृष्ठ-52, मूल्य-20रू.(वार्षिक200रू.), संपर्क-प्रगति भवन चैती दुर्गा स्थान, साहिबगंज, झारखण्ड फोनः(06436)222467, ई मेलः pragativarta@yahoo.co.inclick here
पत्रिका का समीक्षित अंक मैला आंचल जैसे विश्व प्रसिद्ध उपन्यास के लेखक फणीश्वरनाथ रेणु जी पर एकाग्र है। पत्रिका के आलेख रेणु जी के साहित्यिक जीवन व उनके सघर्ष व तप की दास्तान बयान करते हैं। डाॅ. श्रीरंजन सूरिदेव, डाॅ. सिद्धेश्वर कश्यप, डाॅ. ओमप्रकाश सिन्हा, डाॅ. चन्द्रशेखर तिवारी, डाॅ. रामजन्म मिश्र व डाॅ. प्रभा दीक्षित के आलेख प्रमुख हैं। भोला पण्डित ‘प्रणयी’ का संस्मरण ‘क्या रेणु का व्यक्तित्व असामाजिक था?’ एक बहुत ही गंभीर अध्ययन की मांग करने वाली रचना है। अन्य रचनाओं में मंगल रामचन्द्र की कहानी ‘जीवनदान’ व डाॅ. आशा पाण्डेय की कविताएं अच्छी हंै। पत्रिका की अन्य रचनाएं, समीक्षाएं, पत्र आदि उपयोगी व पठ्नीय हैं। फणीश्वरनाथ रेणु जी पर और भी अधिक सामग्री जुटाकर उसे विस्तार से प्रकाशित किया जाता तो पाठकों के अधिक हित में होता फिर भी सराहनीय प्रयास के लिए बधाई।

No comments:

Post a Comment