Monday, October 12, 2009

साहित्यकारों के लिए ‘प्रेरणा-अंशु’

पत्रिका-प्रेरणा अंशु, अंक-अगस्त।09, स्वरूप-मासिक, संपादक-प्रताप सिंह, प्रबंध संपादक-कौशल पंत, पृष्ठ-34, मूल्य-10रू।(वार्षिक100रू।), संपर्क-समाजोत्थान संस्थान, वार्ड नं।3, दिनेशपुर जनपद ऊधमसिंह नगर (उत्तराखण्ड) मो. 9719957008 ई मेलः prernaanshu@gmail.com
पत्रिका के समीक्षित अंक में कुछ महत्वपूर्ण व पठ्नीय रचनाओं का प्रकाशन किया गया है। इनमें प्रमुख हैं- स्वतंत्रता प्राप्ति के 62 साल बाद(ए.पी. भारती), उत्तराखण्ड की जनआकांक्षाओं के विपरीत(कु. अनुराधा), शिक्षा का अधिकार छीनने में लगी है सरकार(प्रदीप रावत स्वामी) एवं अन्य आलेख। भारतीय नारी दशा और दिशा आलेख में डाॅ. संजय सिंह ने इसे समाप्त करने में शीघ्रता की है आलेख को और अधिक विस्तार दिया जाना चाहिए था। कहानी में खिलौना(रमेश मनोहरा) छोटी होते हुए भी लाचार वेवश स्त्री की व्यथा व्यक्त करने में सफल रही है। सोनिका मिश्र, कमलेश जोशी ‘कमल’, कैलाश चंदौला व बी.पी. दुबे की कविताएं अच्छी व विचारने योग्य है। पत्रिका नवोदित साहित्यकारों के लिए अपने नाम के अनुरूप प्रेरणा देने का कार्य करती दिखाई देती है।

3 comments:

  1. िस जानकारी के लिये आभार्

    ReplyDelete
  2. अच्छी जान कारी दी आप ने.
    धन्यवाद

    ReplyDelete