Saturday, March 5, 2011

परसाई स्वतंत्र भारत का असली चेहरा(ज्ञानरंजन)-‘इप्टा वार्ता’

पत्रिका: इप्टा वार्ता, अंक: 02 वर्ष 2010, स्वरूप: मासिक, संपादक: हिमांशु राय, पृष्ठ: 10, रेखा चित्र/छायांकन: जानकारी उपलब्ध नहीं, मूल्य: प्रकाशित नहीं, ई मेल: , वेबसाईट: , फोन/मो. 0751.2417711, सम्पर्क: पी.सी. 4 , परफेक्ट एनक्लेव, स्नेह नगर, जबलपुर 02, म.प्र.
समाचार पत्रिका का समीक्षित अंक नवीनतम नाट्य समाचारों से युक्त है। अंक में मुखपृष्ठ पर परसाई प्रसंग समाचार प्रकाशित किया गया है। ख्यात व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई जी का एक अनउपलब्ध लेख ‘दस फार एंड नो फर्दर’ पत्रिका ने प्रमुखता से प्रकाशित किया है। भारतीय जन नाट्य संघ इप्टा अशोकनगर द्वारा आयोजित बाल नाट्य कार्यशाला का समाचार अच्छी जानकारी उपलब्ध कराता है। अन्य समाचारों में रायगढ़ इप्टा का ग्रीष्मकालीन नाट्य प्रशिक्षण शिविर, बाल रंग शिविर तथा जनकवि नारायण सुर्वे के निधन के समाचार प्रकाशित किए गए हैं। पत्रिका हिंदी साहित्य में विलोपित हो रही नाट्य विधा के पुर्नजागरण के लिए अथक प्रयास कर रही है तथा इस प्रयास में वह सफल भी हो रही है।

1 comment: