Saturday, December 26, 2009

क्यों न आप भी अपने पास ही रखें ‘आसपास’?

पत्रिका-आसपास, अंक-दिसम्बर.09, स्वरूप-मासिक, संपादक-राजुरकर राज, पृष्ठ-24, मूल्य-5रू.(वार्षिक 50रू.), सम्पर्क-एच.03, उद्धवदास मेहता परिसर, नेहरू नगर भोपाल म.प्र., फोनः(0755)2772051, ईमेलः shabdashilpi@yahoo.com
समाचार प्रधान यह पत्रिका विगत 12 वर्ष से निरंतर प्रकाशित हो रही है। समीक्षित अंक में ख्यात पत्रकार स्व. श्री प्रभाष जोशी जी पर संक्षिप्त किंतु उपयोगी जानकारी प्रकाशित की गई है। विशेष के अंतर्गत प्रकाशित प्रमुख समाचारों में 7 ‘कवि सम्मेलनों को प्रोत्साहित करेंगे अमिताभ’, जर्मनी से लाया जाएगा बिस्मिल का साहित्य, मास्को पुस्तक मेले में सम्मानित भारतीय अतिथि, आबिद सुरती से जाने लेखन के गुर तथा लिख भी सकेंगे गोड़ी बोली प्रमुख हैं। हलचल के अंतर्गत एनएसजी कमांडों में जोश भरेगा गुलजार का गीत, आलोचना का स्वपक्ष, जलेस का ब्लाग लोकार्पित, मंै हिंदोस्तां बोल रहा हूं तथा अनुरागी के नाम पर सड़क उल्लेखनीय हैं। अन्य समाचार तथा सूचनापरक जानकारी साहित्यकारों के मध्य सेतु का कार्य करते हैं। पत्रिका एक तरह का पिं्रट ब्लाग है जो साहित्यकारों के मध्य सूचनाओं जानकारियों तथा उनके सुख दुख का विनिमय करता है।

1 comment:

  1. अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

    ReplyDelete