Saturday, June 20, 2009

उज्ज्वल भविष्य, उत्कृष्ट प्रस्तुति--मैसूर हिंदी प्रचार परिषद पत्रिका

पत्रिका-मैसूर हिंदी प्रचार परिषद् पत्रिका, अंक-मई.09, स्वरूप-मासिक, संपादक-डाॅ. वी. रामसंजीवैया, पृष्ठ-48, मूल्य-5रू.(वार्षिक 50रू.) संपर्क-मैसूर हिंदी प्रचार परिषद, 58, वेस्ट आॅफ कार्ड रोड़, राजाजी नगर, बेंगलूर 560.010 कर्नाटक(भारत)
पत्रिका के समीक्षित अंक में प्रकाशित मुख्य आलेखों में राष्ट्रीय चेतना में तमिल और हिंदी का योगदान-एक तुलना(डाॅ. एम.शेषन), उत्तरी अमरीका में हिंदी के प्रति अनुराग(प्रो. पे्रममोहन लखोटिया), रामकथाओं के अन्तर्राष्ट्रीय विशेषज्ञः डाॅ. रमानाथ त्रिपाठी(डाॅ. रूक्मणि) तथा दिनकर के साहित्य में नारी विमर्श(मैत्री ठाकुर) प्रमुख है। इनके रचनाकारों ने परिश्रम के साथ विषय वस्तु को प्रस्तुत किया है। रामशंकर चंचल, सत्यवीर सिंह, सीताराम शेरपूरी तथा अशोक कुमार शेरी की कविताएं अच्छी पठनीय रचनाएं हैं। बेंगलूर से प्रकाशित होने वाली इस ंिहंदी साहित्यिक पत्रिका का भविष्य उज्ज्वल है।

No comments:

Post a Comment