Tuesday, January 27, 2009

आकंठ.....प्रगतिशील लेखन के लिए

पत्रिका-आकंठ, अंक-अक्टूबर-दिसम्बर08, स्वरूप-मासिक, संपादक-हरिशंकर अग्रवाल, संपर्क-इंदिरा गाॅधी वार्ड, तहसील कालोनी, बनवारी रोड़, पिपरिया जिला होशंगाबाद (म प्र) मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में स्थित पिपरिया नगर से प्रकाशित होने वाली यह काव्य प्रधान पत्रिका है। पत्रिका में प्रकाशित रचनाएं मुख्यतः प्रगतिशील विचारधारा से ओतप्रोत होती हैं। समीक्षित अंक में शैलेन्द, सुरेश सेन‘निशांत’, अनिल गंगल, कुसुम जैन, अपर्णा जेना, शम्मी शम्स वारसी एवं ज्योति पटैल की कविताएं शामिल की गई हैं। पत्रिका के संपादक हरिशंकर अग्रवाल के चुनिंदा कविताओं के संकलन ‘रोहणी तप रही है’ की समीक्षा सुरेश बंसल तथा भगवत पठारिया ने की है। लगभग सभी कविताएं प्रेम को अभिव्यक्ति देने में समर्थ हैं। पत्रिका के समाचार ‘अनय के कहानी संग्रह तीसरा विभाजन का लोकापर्ण एवं संगोष्ठी’ तथा ‘प्रेमचंद कथा सम्मान 2008’ शामिल किए गए हैं। विगत सात वर्ष से लगातार प्रकाशित होने वाली यह पत्रिका लेखकों रचनाकारों ही नहीं पाठकों के मध्य भी अच्छी खासी लोकप्रिय है।

1 comment:

  1. apani pasand ki koi kavita bhi de den.

    ReplyDelete