Tuesday, July 31, 2012

इस बार ‘वटवृक्ष’ की छांव में


पत्रिका: वटवृक्ष,  अंक: मई 2012, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: रवीन्द्र प्रभात, रश्मि प्रभा,  आवरण/रेखाचित्र: अपराजिता कल्याणी, , पृष्ठ: 64, मूल्य: 20 रू.(वार्षिक 80 रू.), ई मेल: ,वेबसाईट:  , फोन/मोबाईल: 0522.2730672, सम्पर्क: एम 1, 107, परिकल्पना, सेक्टर एम 1, संगम होटल के पास, अलीगंज, लखनऊ उ.प्र. 
पत्रिका वटवृक्ष नवीनतम पत्रिका होते हुए भी साहित्यिकता से भरपूर है। अंक में कुछ अच्छी व चुनी हुई रचनाओ का प्रकाशन किया गया है। इनमें साहित्यिकता के साथ साथ वर्तमान समयबोध भी निहित है। दीपिका रानी, कविता विकास, संगीता स्वरूप, निधि टण्डन, रचना श्रीवास्तव, साधना वैद, हिमानी, अमृता तन्मय की रचनाओं में गंभीरता व पठनीयता है। अन्य रचनाओं में जिनमें प्रमुख रूप से राजेश उत्साही, नरेन्द्र व्यास, एम. वर्मा, दिनेश कुमार चैहान, कपिल देव सिंह, सलिल वर्मा ने कुछ नए प्रयोग किए हैं जो समय के साथ साथ  आज की पीढ़ी पर खरे उतरते हैं। पूजा उपाध्याय, वाणी शर्मा, प्रीत अरोड़ा, लावण्या दीपक शाह, यतीन मोहन मोहंती , विनय दास, श्याम संुदर दीक्षित एवं मुकेश पाण्डेय ने कुछ अच्छे प्रयोग किए हैं। 

साहित्य में अहल्या


पत्रिका: अहल्या,  अंक: मई 2012, स्वरूप: मासिक, संपादक: आशादेवी सोमाणी,  आवरण/रेखाचित्र: भारत की विदेश सचिव निरूपमा राव, , पृष्ठ: 64, मूल्य: 20 रू.(वार्षिक 240 रू.), ई मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं , फोन/मोबाईल: 040.24804000, सम्पर्क: 14.4.498/ए, ज्ञानबाग रोड़, प्रकाश रोड़ लाईंस के सामने, पान मण्डी के पास हैदराबाद आंध्रप्रदेश
साहित्य के साथ साथ विविधतापूर्ण सामग्री से युक्त पत्रिका के इस अंक में नवीनतम रचनाओं का समावेश किया गया है। अंक में मालती शर्मा, ओमप्रकाश बजाज, विश्वमोहन तिवारी, गजानन पाण्डेय व चंद्रमोलेश्वर प्रसाद की रचनाओं का प्रकाशन किया गया है। सीताराम गुप्ता, हेमवती शर्मा, प्रो. श्यामलाल कौशल,  कृष्ण कुमार यादव, किशोरीलाल व्यास, विद्याभास्कार वाजपेयी, किरण राजपुरोहित व रीता सिंह की रचनाएं साहित्येत्तर होते हुए भी सरसता से भरपूर हैं। राजेन्द्र परदेसी जी की कहानी दुष्चक्र, ताऊ शेखावटी(ममता), रोहित यादव(लघुकथाएं) तथा अरूण नैथानी का भारतीय विदेश सचिव पर एकाग्र आलेख प्रभावित करता है। श्यामलाल उपाध्याय, रामनिवास मानव, सजीवन मयंक, ओम रायजाद, बी.एल. अग्रवाल, शिवचरण सेन, नरेश हामिलपुरकर, टी. मोहनसिंह एवं माता प्रसाद शुक्ल की कविताओं में नयापन है। पत्रिका की अन्य रचनाएं, समीक्षाएं तथा आलेख भी प्रभावित करते हैं। 

Monday, July 30, 2012

समाचार प्रधान पत्रिका आसपास


पत्रिका-आसपास, अंक-जुलाई 2012, स्वरूप-मासिक, संपादक-राजुरकर राज, पृष्ठ-24, मूल्य-5रू.,वार्षिक  60 रू.60, संपर्क- एच.03, उद्धवदास मेहता परिसर, नेहरू नगर, भोपाल म.प्र. (भारत)
समाचार प्रधान पत्रिका के इस अंक में ख्यात उर्दू कथाकार सहादत हसन मंटो पर विशेष सामग्री का प्रकाशन किया गया है। अभिलाष को मिले दादा साहब फालके पुरस्कार का समाचार पत्रिका का अन्य आकर्षण है। इसके अतिरिक्त ख्यात संपादक व लेखक धर्मवीर भारती पर एकाग्र आलेख विशेष व संग्रह योग्य है। अंक की अन्य रचनाओं में प्रदीप सौरभ को मिला सम्मान, रस्किन बांड की उपलब्धियां, भोपाल में धर्मवीर भारती पर फैलोशिप, युवा रचनाकारों का काव्य विनोद, ताशकंद में अंतर्राष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन तथा ख्यात कथाकार तेजेन्द्र शर्मा के भोपाल के संबंध में विचार पत्रिका को सार्थक व सर्वस्वीकार्य बनाते हैं। यह आश्चर्य का विषय है कि कम दामों में उपलब्ध रचनाकारों के जीवन व समाचारों से जुड़ी इस पत्रिका का पाठक वर्ग अभी तक स्थिर बना हुआ है। 

साहित्य में समावर्तन


पत्रिका: समावर्तन,  अंक: जुलाई 2012, स्वरूप: मासिक, संपादक: रमेश दवे, पृष्ठ: 96, मूल्य: 25रू (वार्षिक 250 रू.), ई मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं, फोन/मोबाईल: 0734ण्2524457, सम्पर्क: 129, माधवी दशहरा मैदान, उज्जैन म.प्र.
पत्रिका का समीक्षित अंक आंशिक रूप से ख्यात कथाकार व साहित्यकार अमरकांत पर एकाग्र है। अंक में उनके व्यक्तिव पर प्रकाशित रचनाओं में रमेश दवे, रामकली सर्राफ के आलेख व अनिता गोपेश द्वारा उनसे लिया गया साक्षात्कार विशेष रूप से प्रभावित करता है। सरोकार के अंतर्गत ख्यात रंगकर्मी सत्यमोहन पर प्रकाशित आलेखों में मनोहर वर्मा, जितेन्द्र हेनरी, छविनाथ तिवारी तथा नरेन्द्र दुबे से उनकी बातचीत विशेष रूप से उल्लेखनीय है। अंक की अन्य रचनाओं मेें प्रज्ञा रावत की कविताएं, प्रतापसिंह सोढी व वाणी दवे की लघुकथाएं, कला जोशी की कहानी बाबू एवं त्रिलोक महावर, पुरूषोत्तम दुबे, अर्चना जोशी की कविताआंे में नवीनता है। पत्रिका के अन्य स्थायी स्तंभ, रचनाएं व समाचार आदि भी विशिष्ठ हैं। 

‘शुभ तारिका’ पत्रिका का नया अंक


पत्रिका: शुभ तारिका,  अंक:जुलाई 2012, स्वरूप: मासिक, संपादक: उर्मि कृष्ण, पृष्ठ: 64, मूल्य: 12रू (वार्षिक: 120रू.), ई मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं, फोन/मोबाईल: 0171.2610483, सम्पर्क: कृष्णदीप ए-47, शास्त्री कालोनी, अम्बाला छावनी, 133001 हरियाणा
पत्रिका के समीक्षित अंक में साहित्य की विविध विधाओं की रचनाओं को शामिल किया गया है। अंक में चंद्रमोलेश्वर, आशीष दलाल, हंसमुख रामदेपुत्रा, अखिलेश शुक्ल, विद्याशंकर, अरविंद अवस्थी, अलका मित्तल, श्लेष कुमार एवं रोहित राय की लघुकथाओं को स्थान दिया गया है। कविताओं के अंतर्गत रामस्नेहीलाल शर्मा, अशोक सिंह, रश्मि गोयल, उपाध्याय चद्रशेखर, कमर रईस, माधव अशोक एवं अशोक भारती की अच्छी कविताओं को शामिल किया गया है। विजय तिवारी की कहानी तथा दीप्ति मित्तल का व्यंग्य प्रभावित करते हैं। पत्रिका की अन्य रचनाएं, स्तंभ आदि भी उपयोगी व जानकारीपरक हैं। 

Tuesday, July 24, 2012

साहित्य सागर का नया अंक


पत्रिका: साहित्य सागर,  अंक: जुलाई , वर्ष: 11,  स्वरूप: मासिक, संपादक: कमल कांत सक्सेना, पृष्ठ: 52, मूल्य: 20 रू.(वार्षिक 240 रू.), वेबसाईट: उपलब्ध नहीं, ईमेल: , फोन/मोबाईल: 0755.4260116, सम्पर्क:  161बी, शिक्षक कांग्रेस नगर , बाग मुगलियां, भोपाल म.प्र. 
पत्रिका का समीक्षित अंक ख्यात व्यंग्यकार लेखक व साहित्यकार रमेश चंद्र खरे पर एकाग्र है। अंक में उनके समग्र व्यक्तित्व पर रामकुमार बेहार, राधावल्लभ आचार्य, विजय लक्ष्मी विभा, प्रो. रमाकांत श्रीवास्तव, कपिल कुमार, मूलाराम जोशी, परसुराम शुक्ल तथा संतोष खरे ने विचार किया है। अंक की अन्य रचनाओं में प्रभुदयाल मिश्र, ब्रहमजीत गौतम, सुरेन्द्र भारद्वाज तथा आकांक्षा सक्सेना के आलेख प्रभावित करते हैं। किशोर काबरा, रामेश्वर शर्मा, रामस्नेहीलाल गर्ग, वीरेन्द्र आस्तिक, घनश्यामदास सोनी, प्रेमलता नीलम की कविताएं विशिष्ठ हैं। पत्रिका के अन्य स्तंभ, समाचार आदि भी उल्लेखनीय हैं। 

Saturday, July 21, 2012

पत्रिका प्रोत्साहन का नया अंक


पत्रिका: प्रोत्साहन,  अंक: अपै्रल-जून 2012, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: कमला जीवितराम सेतपाल,  आवरण/रेखाचित्र: जानकारी उपलब्ध नहीं, पृष्ठ: 36, मूल्य: 15रू.(वार्षिक 60रू.), ई मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं , फोन/मोबाईल: 022.26365138, सम्पर्क: ई 3/307, इन्लैक्स नगर, वारी रोड़ वर्सोवा, अंधेरी पश्चिम मुम्बई महाराष्ट्र
Add caption
स्व. श्री सेतपाल जी द्वारा स्थापित तथा संपादित इस पत्रिका का स्तर श्रीमती कमला जी ने ज्यो का त्यों बरकरार रखा है। इसलिए पत्रिका प्रत्येक पाठक के लिए सहेजकर रखने योग्य है। अंक में जीवितराम जी का  नेता पुराण साहित्य के नवीन पाठकों के लिए उपयोगी व पठनीय रचना है। राम दलाल की कहानी, सुरेश आनंद का व्यंग्य तथा हरि मोटवानी की रचना बारूद पत्रिका की विशिष्ठ रचनाएं हैं। देवेन्द्र विमल, मिर्जा हसन नासिर,  बहादुर चैहान, रामचरण यादव, श्रीकृष्ण सैनी तथा देवेन्द्र कुमार मिश्रा की कविताएं प्रभावित करती है। प्रो. श्यामलाल कौशल, रामशंकर चंचल, गौरीशंकर श्रीवास्तव एवं आकांक्षा यादव की लघुकथाएं स्तरीय व पठनीय है। पत्रिका की अन्य रचनाओं में भी सरसता है। 


साहित्य में ‘‘समकालीन अभिव्यक्ति’’


पत्रिका: समकालीन अभिव्यक्ति,  अंक: अपै्रल-जून 2012, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: उपेन्द्र कुमार मिश्र,  आवरण/रेखाचित्र: जानकारी उपलब्ध नहीं, पृष्ठ: 64, मूल्य: 15रू.(वार्षिक 60रू.), ई मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं , फोन/मोबाईल: 011.26645001, सम्पर्क: फ्लैट नं. 5, तृतीय तल, 984 वार्ड नं. 7, महरौली, नई दिल्ली 30 
समीक्षित पत्रिका समकालीन  अभिव्यक्ति का यह अंक विविधतापूर्ण रचनाओं से युक्त है। अंक में साहित्य जगत के नवोदित तथा स्थापित रचनाकारों को समान रूप से स्थान देने का प्रयास किया गया है। प्रमुख रचनाओं में कहानियों व आलेखों को सम्मलित किया जा सकता है। के.एल. दिवान, कृष्ण कुमार भगत, पूरन सिंह की कहानियों में आज के मानव के उस रूप से दर्शन होते हैं जिसके बारे में सामान्यतः लोग कम ही सोचते हैं। ए. सन्यासि राव, वरूण कुमार तिवारी के लेख तथा विजय कुमार सम्पति का व्यंग्य पाठकों को अच्छे लगेगें। स्तंभ धरोहर के अंतर्गत अनिल डबराल का आलेख इस बार विशेष प्रभावित नहीं कर सका है। रश्मि वर्णवाल, नवल किशोर भट्ट, ज्ञानेश कुमार, किशन तिवारी व राजीव कुमार तिवारी की कविताओं में ताजगी है। विश्वमोहन तिवारी का यात्रा वृतांत रोचक व जानकारीपरक है। मीना गुप्ता व मोहन लोधिया की लघुकथाओं में कथातत्व के लक्षण भी मौजूद हैं। पत्रिका की अन्य रचनाएं भी प्रभावित करती है। 

वर्तमान ‘‘समय के साखी’’


पत्रिका: समय के साखी,  अंक: जनवरी-फरवरी संयुक्तांक 2012, , स्वरूप: मासिक, संपादक: डाॅ. अनीता,  आवरण/रेखाचित्र: जानकारी उपलब्ध नहीं, पृष्ठ: 64, मूल्य: 20रू.(वार्षिक 240रू.), ई मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं , फोन/मोबाईल: 09713035330, सम्पर्क: बी 308, सोनिया काम्पलेक्स, हजेला हास्पिटल के सामने, भोपाल 3, म.प्र. 
पत्रिका समय के साखी ने कम समय में भी वह मुकाम हासिल किया जिसे पाने मंे साहित्य जगत की अन्य पत्रिकाओं को वर्षो लगे हैं। यह इस पत्रिका की संपादक डाॅ. अनिता के कठोर परिश्रम का फल है। इस अंक में राजेश जोशी, ओम भारती, नरेन्द्र जैन, संतोष चैबे, राजेन्द्र शर्मा, राग तैलंग, वेद प्रकाश तथा प्रभा मजूमदार की कविताएं प्रकाशित की गई है। संतोष अलेक्स का भाषान्तर के अंतर्गत प्रकाशित आलेख पत्रिका की एक शोधपरक व अच्छी रचना है। व्यासमणि त्रिपाठी, सुरेश पंडित के लेखों में कसावट व नवीनता है। निशांत व प्रतिमा जौहरी की कहानी भी अच्छी बन पड़ी है। अनिरूद्ध सिन्हा की ग़ज़ल में नई सोच दिखाई पड़ती हैं। पत्रिका की समीक्षाएं व अन्य रचनाएं भी अहम है। 

Sunday, July 15, 2012

हिंदी साहित्य में ‘‘हिंदुस्तानी जबान’’

पत्रिका: हिंदुस्तानी जबान,  अंक: जून 2012, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: माधुरी छेड़ा, आवरण/रेखाचित्र: जानकारी उपलब्ध नहीं, पृष्ठ: 64, मूल्य: 20रू.(वार्षिक 80रू.), ई मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं , फोन/मोबाईल: 22810126, सम्पर्क:  महात्मा गाॅधी मेमोरियल रिसर्च सेंटर, महात्मा गाॅधी बिल्ंिड़ग, 7 नेताजी सुभाष रोड़, मुम्बई महाराष्ट्र
    साहित्य जगत में हिंदी व उर्दू जबान में एकसाथ प्रकाशित की जा रही इस पत्रिका के प्रत्येक अंक में गाॅधीवादी साहित्य से संबंधित सामग्री का प्रमुख रूप से प्रकाशन किया जाता है। समीक्षित अंक में उषा ठक्कर, सकीना अख्तर, शुलभ चैरे तथा रवीन्द्र कात्यायन के आलेख विशेष रूप से प्रभावित करते हैं। सुरिन्दर नीर की कहानी लवासे एक अच्छी पृष्ठभूमि पर रचे बनुे गए कथानक युक्त रचना है। रहमान राही, अर्श सहबाई, पद्मासचदेव तथा सौरभ साईकिया की कविताएं गाॅधीवादी दृष्टिकोण को विस्तार देने में सफल हैं। पत्रिका के उर्दू खण्ड की रचनाएं भी उच्च कोटि की हैं तथा हिंदी के साथ साथ उर्दू साहित्य का प्रतिनिधित्व करती हैं।