Friday, December 30, 2011

ख्यात पत्रिका ‘संबोधन’ का नया अंक

पत्रिका: संबोधन, अंक: अक्टूबर दिसम्बर 2011,स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: कमर मेवाड़ी, पृष्ठ: 92, मूल्य: 20रू (वार्षिक: 80रू.), मेल: ,वेबसाईट: उपलब्ध नहीं, फोन/मोबाईल: 09829161342, सम्पर्क: पो. कांकरोली, जिला राजसमंद 313324 राजस्थान
हिंदी साहित्य में पिछले 46 वर्ष से लगातार प्रकाशित हो रही पत्रिका संबोधन का प्रत्येक अंक विशिष्ठ होता है। समीक्षित अंक भी प्रसिद्ध विद्वान आचार्य निरंजन नाथ पर एकाग्र है। उन के समग्र व्यक्तिव पर पत्रिका ने उपयोगी व जानकारी परक सामग्री का प्रकाशन किया है। प्रकाशित प्रमुख रचनाओं में उनके व्यक्तित्व पर लिखे गए आलेखों को सम्मलित किया जा सकता है। इनके प्रमुख लेखक हैं - भगवती लाल व्यास, वेद व्यास, बालकवि बैरागी, महेन्द्र भागवत, अफजल खां अफजल तथा जीतमल कच्छारा। पत्रिका की अन्य रचनाओं में उनकी कहानियां, कविताएं तथा अन्य रचनाएं सम्मलित हैं। इसके अतिरिक्त माधव नागदा, पल्लव, हुसैनी बोहरा तथा राजेन्द्र परदेसी के आलेख विशेष रूप से प्रभावित करते हैं। पत्रिका का अन्य आकर्षण इसका ऋुटिहीन मुद्रण तथा आकर्षक ले आउट है।

No comments:

Post a Comment