Monday, April 25, 2011

विविधतापूर्ण साहित्य-पत्रिका -‘नया ज्ञानोदय’

पत्रिका: नया ज्ञानोदय, अंक: april 2011, स्वरूप: मासिक, संपादक: रवीन्द्र कालिया, पृष्ठ: 128, मूल्य: 30रू(वार्षिक 360रू.), ई मेल: jnapith@satyam.net.in ,वेबसाईट: http://www.jnapith.net/ , फोन/मोबाईल: 011.24626467, सम्पर्क: 18, इन्स्टीट्यूटनल एरिया, लोदी रोड़, नई दिल्ली 110003

इस प्रतिष्ठित पत्रिका के प्रत्येक अंक में प्रकाशित रचनाओं में कुछ न कुछ अलग हटकर होता है। इस अंक में गुलजार, भारत भारद्वाज एवं कृष्ण कुमार जैसे ख्यात लेखकों-साहित्यकारों के आलेख प्रकाशित किए गए हैं। प्रकाशित कहानियों में रैम्बल(प्रदीप पंत) तथा सन्नाटा(जयशंकर) विशिष्ठ कहानियां हैं। अंशु त्रिपाठी, प्रतापराव कदम तथा शुभमश्री की कविताएं काव्य के निश्चित प्रतिमानों से अलग समाज के लिए सोचती हैं। देशकाल के अंतर्गत विश्वास पाटिल, शशांक दुबे, प्रांजल धर तथा श्रीगोपाल काबरा ने साहित्येत्तर विषयों का अच्छा विश्लेषण किया है। द्रोणवीर कोहली का उपन्यास ‘खाड़ी में खुलती खिड़की’ पढ़कर यह समझना कठिन हो जाता है कि आखिर क्यों संपादक ने इसे इतनी अधिक तवज्जो दी है। भगवान सिंह, अजय तिवारी तथा विजय मोहन सिंह के साहित्यालेख प्रभावित करते हैं।

3 comments:

  1. बहुत सुंदर समीक्षा, धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. upanyas padhkar sachmuch aisa hee laga..bawzud iske naya gyanoday ki samagree pathneey stareey aur rochak rahtee hai

    ReplyDelete