Tuesday, November 23, 2010

कथाबिंब का नया अंक

पत्रिका: कथा बिंब, अंक: जुलाई-सितम्बर 2010, स्वरूप: त्रैमासिक, सम्पादक: माधव सक्सेना अरविंद, मंजुश्री, पृष्ठ: 52, मूल्य:15रू.(वार्षिक 60रू.), ई मेल: kathabimb@yahoo.com , वेबसाईट: http://www.kathabimb.com/ , फोन/मो. 25515541, सम्पर्क: ए-10, बसेरा आॅॅफ दिन क्वारी रोड़, देवनार मुम्बई 400088
कथाप्रधान त्रैमासिकी कथाबिंब के समीक्षित अंक मंे अच्छी व पठनीय कहानियों का प्रकाशन किया गय हैै। इनमें प्रमुख हैं - फंदा क्यो?(डाॅ. सुधा ओम ढीगरा), पिताजी चिंता न करे(चंद्रमोहन प्रधान), चूल्हे की रोटी(सुरेन्द्र अंचल), सइयां निकस गए(डाॅ. वासुदेव) एवं सरहद के पार(डाॅ. संदीप अवस्थी)। पत्रिका की सबसे अच्छी रचना डाॅ. सुधा ओम ढीगरा की कहानी ‘फंदा क्यो?’ है। कहानी का कथानक बहुत ही मार्मिक है व पाठक को मन की गहराइयों तक आंदोलित करता है। दिनेश पाठक शशि, जसविंदर शर्मा, विकास रोहिल्ला, की लघुकथाएं उल्लेखनीय हैं। डाॅ. भावना शेखर, राही शंकर व उमाश्री की कविताएं आज के संदर्भो से भलीभांति जुड़ी हुई प्रतीत होती है। अन्य कविताएं, ग़ज़लें आदि केवल खानापूर्ति लगती है। ख्यात व्यंग्यकार एवं व्यंग्य यात्रा के संपादक प्रेम जनमेजय से सुश्री मधुप्रकाश की बातचीत अच्छी व समसामयिक होने के साथ साथ आज के साहित्यिक वातावरण की गहन पड़ताल करती है। पत्रिका के अन्य स्थायी स्तंभ, रचनाएं आदि भी पढ़ने योग्य हैं।

2 comments:

  1. यहाँ तो बहुत काम की जानकारी है। धन्यवाद।

    ReplyDelete