Thursday, March 25, 2010

वक्त और हालात का दस्तवेज-कथा सागर

पत्रिका: कथा सागर अंक: जनवरी-मार्च 10, स्वरूप: त्रैमासिक, संपादक: असलम तस्नीम, पृष्ठ: 24, मूल्य:20रू.(वार्षिकः 100रू.), ई मेल: उपलब्ध नहीं , वेबसाईट: उपलब्ध नहीं, फोन/मो. 9576661480, सम्पर्क: लेखनी प्रकाशन, प्लाट 6 , सेक्टर 2, हारून नगर कालोनी, फुलवारी सरीफ पटना 801505 (बिहार)
पत्रिका के इस अंक में कृष्णदत्त पालीवाल का आलेख मधुर विद्रोही:निर्मल वर्मा, खामोश तुम्हें देखती रहूंगी(इमरोज़) व उन्होंने जो महसूस किया लिखा (सुलोचना राघेय राघव) पठनीय रचनाएं हैं। मीरा सिंह मीर, नीर शबनम, दिवाकर वर्मा, प्रताप सिंह सोढ़ी, शैली बलजीत व सुरेश शर्मा की लघुकथाएं ध्यान आकर्षित करती हैं। तारीक असलम तस्नीम की कहानी शरीफन बुआ भी अपने कथ्य व शिल्प की दृष्टि से उल्लेखनीय है।केदार नाथ सिंह, अवधेश अवस्थी, राजेन्द्र परदेसी, डाॅ. शोभनाथ यादव व सिद्धेश्वर की कविताएं नवीनता लिए हुए हैं। पत्रिका का दृष्टिकोण रचनात्मक व स्वागत योग्य है।

No comments:

Post a Comment