Sunday, January 10, 2010

कहानियों का अंक ‘हिमप्रस्थ’

पत्रिका-हिमप्रस्थ, अंक-नवम्बर.09, स्वरूप-मासिक, संपादक-रणजीत सिंह राणा, पृष्ठ-96, मूल्य-5रू.(वार्षिक 50रू.), ईमेलः himprasthahp@gmail.com , सम्पर्क-हिमाचल प्रदेश पिं्रटिंग पे्रस परिसर, घोड़ा चैकी, शिमला .05
पत्रिका का नवम्बर .09 अंक कहानी अंक है। इसमें कहानी विधा पर महत्वपूर्ण आलेखों का प्रकाशन किया गया है। सभी आलेख विश्लेषणात्मक हैं तथा कहानी विधा पर अच्छी तरह से प्रकाश डालते हैं। प्रमुख आलेखों में - डाॅ सुशील कुमार फुल्ल, रविलाल शाहीन, राजेश बंटा एवं नवीन कुमार मदवाना के आलेख शामिल हैं। डाॅ. जोगिन्द्र यादव, अशोक गौतम, राजेन्द्र परदेसी एवं साधुराम दर्शक की कहानी आज के संदर्भों का निर्वाहन कर सकी हैं। लघुकथाओं में प्रेम नारायण गुप्ता, विपाशा शर्मा एवं डाॅ. सुरेश उजाला कथा के स्वरूप से उसके गूढ़ अर्थ तक जा सकी हैं। कविताओं मंे डाॅ .दिनेश चमोला, रमेश चंद्र शर्मा, डाॅ. रीता हजेला, सीताराम गुप्ता, केशव चंद्र प्रदीप शर्मा, प्रियंका भारद्वाज तथा संतोष उत्सुक ने विशेष रूप से प्रभावित किया है।
पत्रिका की अन्य रचनाएं, समीक्षाएं तथा व्यंग्य रपट आदि भी अपना महत्व रखते हैं।

3 comments: