Thursday, October 15, 2009

हिंदी साहित्य के विकास में उल्लेखनीय योगदान

पत्रिका-मैसूर हिंदी प्रचार परिषद पत्रिका, अंक-सितम्बर.09, स्वरूप-मासिक, प्रधान संपादक-डाॅ. बि. रामसंजीवैया, गौरव संपादक-डाॅ. मनोहर भारती, पृष्ठ-48, मूल्य-5रू.(वार्षिक-50रू.), संपर्क-मैसूर हिंदी प्रचार परिषद, 58 वेस्ट आॅफ कार्ड रोड़, राजाजी नगर, बेंगलूर, कर्नाटक, फोनः(080)23404892, ई मेलः brsmhpp@yahoo.co.in
पत्रिका के समीक्षित अंक में प्रकाशित आलेखों में अशोक कुमार शैरी, प्रो. एच.एस. नागराजस्वामी, मित्रेश कुमार गुप्त, जयरामसिंह जय, चैधरी गणपत भाई आर, धीरजभाई वणकर तथा बी. जी. पटेल ने विषय के साथ नवीनता तथा खोजपरक ढंग से उसका निष्पादन किया है। राजेन्द्र गोवर, नरेश हामिलपुरकर, वर्षा पुनवटकर तथा सविता चड्डा की कविताएं आज के संदर्भ को अपने आप में समेटे हुए हैं। अन्य रचनाओं में दिलीप भाटिया की समय प्रबंधन, देवेन्द्र कुमार मिश्रा की कहानी कच्चा प्रेम में नवीनता है। पत्रिका का हिंदी साहित्य के विकास में योगदान उल्लेखनीय है। इस पुनीत कार्य के लिए पत्रिका बधाई की पात्र है।

3 comments:

  1. आप को ओर आप के परिवार को दिपावली की शुभकामनाये

    ReplyDelete
  2. मैसूर मे हिन्दी पर यह काम हो रहा है प्रशंसनीय है ।

    ReplyDelete
  3. बढ़ा दो अपनी लौ
    कि पकड़ लूँ उसे मैं अपनी लौ से,

    इससे पहले कि फकफका कर
    बुझ जाए ये रिश्ता
    आओ मिल के फ़िर से मना लें दिवाली !
    दीपावली की हार्दिक शुभकामना के साथ
    ओम आर्य

    ReplyDelete