Friday, October 30, 2009

अच्छे साहित्य की अच्छी पत्रिका-प्रगतिशील आकल्प

प्रगतिशील आकल्प, अंक-अक्टूबर-दिसम्बर.09, स्वरूप-त्रैमासिक, संपादक-डाॅ.शोभनाथ यादव, पृष्ठ-20, मूल्य-1000रू.(वार्षिक), सम्पर्क-पंकज क्लासेस, पोस्ट आॅफिस बिल्ंिडग, जोगेश्वरी पूर्व मुम्बई
पत्रिका के समीक्षित अंक में ख्यात लेखिका चंद्रकिरण सौनेरेक्सा के जीवन की संघर्ष यात्रा का मार्मिक वर्णन सुधा अरोड़ा ने किया है। कहानियों में बिक्कर सिंह आज़ाद, राधेश्याम यादव प्रभावित करते हैं। शब्बरी हसन एवं रामकुमार अत्रेय की कविताएं पत्रिका का अन्य आकर्षण है। योगेन्द्रनाथ शुक्ल एवं राजेन्द्र परदेसी की लघुकथाएं विशेष रूप से प्रभावित करती है। पत्रिका की अन्य रचनाएं व स्तंभ भी इस उल्लेखनीय बनाते हैं।

1 comment: