Monday, August 17, 2009

गागर में सागर है पत्रिका-साहित्य सागर

पत्रिका-साहित्य सागर, अंक-अगस्त.09, स्वरूप-मासिक, संपादक-कमलकांत सक्सेना, पृष्ठ-52, मूल्य-रू.20(वार्षिक200रू.), संपर्क-161बी, शिक्षक कांग्रेस नगर, बाग मुगलिया, भोपाल (म.प्र.)
पत्रिका के समीक्षित अंक में रमेश सोबती, जीवराज सिंधी, कमला चतुर्वेदी के आलेखों को स्थान दिया गया है। भारती राउत की ललित निबंधात्मक कहानी तथा पे्रमलता नीलम की लघुकथाएं पठ्नीय हैं। रेखा कक्कड़, सनातन कुमार वाजपेयी, कैलाश जायसवाल तथा आचार्य भगवत दुबे की कविताएं विशेष रूप से प्रभावित करती हैं। ख्यात साहित्कार श्याम बिहारी सक्सेना पर एकाग्र परिशिष्ट पाठकों को अवश्य ही पसंद आएगा। पत्रिका के अन्य स्थायी स्तंभ, समाचार, पत्र खण्ड तथा समीक्षाएं अन्य अंक की तरह संुदर ढंग से प्रस्तुत की गई है।

No comments:

Post a Comment