Thursday, May 28, 2009

‘जन बल भाषा बल बने’--विश्व हिंदी समाचार

पत्रिका-विश्व हिंदी समाचार, अंक-मार्च.09, स्वरूप-त्रैमासिक, प्रधान संपादक-डाॅ.(श्रीमती)विनोद बाला अरूण, संपादक-डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद मिश्र, संपर्क-विश्व हिंदी सचिवालय, स्विफट लेन, फाॅरेस्ट साइट, माॅरीशस
माॅरीशस से प्रकाशित होने वाली यह पत्रिका प्रमुख साहित्यिक समाचार पत्रिका है। समीक्षित अंक में विश्व हिंदी समारोह के आयोजन का समाचार प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है। माॅरीशस के राष्ट्रीय टेलिविजन नेटवर्क पर दिखाए जाने वाले हिंदी आधारित कार्यक्रम हिंदी परिक्रमा की सराहना की गई है। इस कार्यक्रम में अमेरिका, यूरोप, एशिया, आस्ट्रेलिया तथा अफ्रीका के प्रतिनिधियों को चुना गया था। संपादिका डाॅ. विनोद बाला अरूण ने संपादकीय में कामना की है कि ‘जन बल भाषा बल बने’। वरिष्ठ कथाकार गोविंद मिश्र को साहित्य अकादेमी पुरस्कार का समाचार मार्च .09 अंक में प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है। भोपाल में आयोजित विश्व हिंदी दिवस के कार्यक्रम में माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. अच्युतानंद मिश्र के भाषण को पत्रिका ने हिंदी के विकास का उद्घोष माना है। आज हिंदी की स्थिति विश्व में मजबूत है। यह बात अमेरिका यूरोप सहित दुनिया के दूसरे देश भी मान रहे हैं। जापान में आयोजित होने वाले हिंदी कार्यक्रम तथा नाटक वहां हिंदी के प्रचार प्रसार की स्थिति से अवगत कराते हैं। हंगरी के प्रमुख नगर बुदापेश्त आयोजित होने वाले विश्व हिंदी दिवस के समाचार से ज्ञात होता है कि विश्व में हिंदी पर कार्य करने वाले लोगों की कमी नहीं है। विश्व हिंदी समाचार पत्रिका के विश्वव्यापी इस प्रयास को भारत में जन जन तक पहुंचाए जाने की आवश्यकता है।
click here

4 comments:

  1. विश्व में हिन्दी की स्थिति मजबूत होती रहे, यही कामना है। इसके लिये हिन्दी-प्रेमियोंको कमर कसकर खड़े होना होगा और बहुत कुछ करना होगा।

    ReplyDelete
  2. रोचक जानकारी के लिये आभार अखिलेश जी

    ReplyDelete