Friday, April 17, 2009

समय और सम्यक भारतीय सोच के दो विशिष्ट आयाम हैं।’(संदर्भ-साक्षात्कार)

पत्रिका-साक्षात्कार, अंक-जनवरी.09, स्वरूप-मासिक, प्रधान संपादक-देवेन्द्र दीपक, संपादक-हरिभटनागर, सलाहकार- श्री मनोज श्रीवास्तव, श्रीराम तिवारी पृष्ठ-120, मूल्य-15रू.(वार्षिक150रू.), संपर्क-साहित्य अकादमी, म.प्र. संस्कृति परिषद, संस्कृति भवन, वाण गंगा भोपाल म.प्र. (भारत)Shaadi.com Matrimonials - Register for FREE
साक्षात्कार के समीक्षित अंक में डोगरी की प्रख्यात कवयित्री पद्मा सचदेव से बातचीत में डोगरी भाषा व उसके साहित्य का परिचय मिलता है। अमृत लाल वेगड़ की नर्मदा परिक्रमा इस नदी को भारतीय संस्कृति से जोड़ती हुई दिखाई देती है। मृदुला सिन्हा व गोविंद उपाध्याय की कहानियां समय का सार्थक कथन है। तेजराम शर्मा, निशांत तथा प्रदीपकांत की कविताएं देशकाल का प्रतिबिम्ब है। आचार्य राममूर्ति त्रिपाठी, वीरेन्द्र सिंह आलेख तथा शंकर पुणताम्बेकर का व्यंग्य पठ्नीय रचना है। पत्रिका के अन्य स्थायी स्तंभ तथा पत्र समीक्षा आदि अंक को पठ्नीय बनाते हैं। संपादकीय में श्री देवेन्द्र दीपक ने भारतीय चिंतन की व्यापकता को स्पष्ट किया है। उनके अनुसार, ‘समय और सम्यक भारतीय सोच के दो विशिष्ट आयाम हैं।’
Goa_Hotels
Goa_Hotels

1 comment:

  1. आप का ब्लाग बहुत अच्छा लगा।
    मैं अपने तीनों ब्लाग पर हर रविवार को ग़ज़ल,गीत डालता हूँ,
    जरूर देखें।मुझे पूरा यकीनहै कि आप को ये पसंद आयेंगे।

    ReplyDelete