Friday, January 16, 2009

केरल हिंदी साहित्य अकादेमी ................आकर्षक शोध पत्रिका

पत्रिका-केरल हिंदी साहित्य अकादेमी(शोध पत्रिका) अंक-जुलाई।08, स्वरूप-त्रैमासिक, संपादक-डॉ। एन. चन्द्रशेखरन नायर, मूल्य-20रू. वार्षिक-80 रू. सम्पर्क-श्री निकेतन लक्ष्मीनगर, पट्टम पालस, पोस्ट तिरूवनन्तपुरम 615004 (केरल)

प्रायः यह समझा जाता है कि उत्तर भारत तथा दिल्ली में ही हिंदी पर कार्य हो रहा है। इस पत्रिका से केरल में हिंदी भाषा एवं साहित्य पर किये जा रहे शोधात्मक कार्य की जानकारी मिलती है। दक्षिण में हिंदी के प्रति आकर्षण उत्पन्न होना हमारे लिए सुखद है। पत्रिका का प्रथम आलेख जो डॉ. रवीन्द्र कुमार ने लिखा है देश में पत्रकारिता पर पर्याप्त प्रकाश डालता है। डॉ. एम. नारायण रेड्डी ने मोहन राकेश के उपन्यासों में अनुशीलन पर विस्तृत टिपण्णी दी .साधना तोमर, सिद्धेश्वर की कविताएं हिंदी पट्टी के साहित्यकारों की कविताओं के समान गुरूत्व ग्रहण किए हुए हैं। हिंदी भाषा एवं साहित्य के प्रति इस पत्रिका से अनुराग झलकता है। पत्रिका भविष्य में अच्छा साहित्य प्रकाशित करेगी ऐसी आशा है।


1 comment: